• Views: 200
  • Pages: 43
  • Size: 5.33 MB
  • Scan: Medium
  • Download: 100
सौवरः

Sauvarah

By : Swami Dayanand Saraswati In : Hindi

इस सौवरः ग्रन्थ के बनाने का मुख्य प्रयोजन यही है कि जिसने सब मनुष्यों को उदात्तादि स्वरों की व्यवस्था का बोध यथार्य हो जावे । जब तक उदात्तादि स्वरों को ठीक-ठीक नहीं जानते तब तक लौकिक-वैदिक वाक्यों वा छन्दों का स्पष्ट, प्रिय उच्चारण, गान और ठीक-ठीक अर्थ भी नहीं जान सकते । और उच्चारण आदि के यथार्थ होने के विना लौकिक-वैदिक शब्दों से यथार्थ सुखलाभ भी किसी को नहीं होता। 

N/A
  • Title : सौवरः


    Sub Title : N/A


    Series Title : वेदाङ्ग प्रकाशः


    Language : Hindi


    Category :


    Subject : संस्कृत व्याकरण


    Author 1 : स्वामी दयानन्द सरस्वती


    Author 2 : N/A


    Translator : N/A


    Editor : N/A


    Commentator : N/A


    Publisher : Vedic Pustakalay


    Edition : 6th


    Publish Year : 1985


    Publish City : Ajmer


    ISBN # : N/A


    https://www.vediclibrary.in/book/sauvarah

Author's Other Books